‘माँ, तुम बहुत याद आती हो’ सस्वर पाठ आरती सामंत

 

मेरी कविता “ माँ तुम बहुत याद  आती हो” उन सभी लोगों को समर्पित है जिन्होने उम्र के किसी ना किसी पड़ाव मे अपनी माँ को खोया है। इस कविता में एक लड़की जिसने किशोरावस्था में अपनी माँ को खोया है उसकी पीड़ा को शब्दों मे उतारने का प्रयास किया है। 

 

5
(2)

Author

  • Arati Samant

    Loves to read/write/listen poems, Shayari, articles. My family and events around the world motivates me to write. Writing is my passion and it gives life to my thoughts which are unexpressed. Still a lot to learn and express !

Click on a star to rate it!

Average rating 5 / 5. Vote count: 2

No votes so far! Be the first to rate this post.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *